ऋषिकेश समर कैम्प कैसे पहुँचे?


ऋषिकेश (Summer Camp) 01-05 जून 2019 : गोधूलि परिवार पांच दिवसीय ग्रीष्मकालीन शिविर



प्रवेश केवल पंजीकृत परिवारों एवं लोगो के लिए

शिविर स्थल तक कैसे पहुंचे?

आचार्य निर्माण - एवं आदर्श अभिभावक एवं बालविकास शिबिर @तपोवन, ऋषिकेश - जून 2019

*ट्रेन से*
ट्रेन आपको हरिद्वार तक मिलेगी जहाँ से बहुतायत में टैक्सी या ऑटो ३० किलोमीटर दूर ऋषिकेश तक जाते है
ऑटो आपको मुनि की रेती ऑटो स्टैंड तक छोड़ेगा वहां से ऑटो वाले को आपको "तपोवन पुलिस चौकी" तक जाने के लिए कहना है
शिविर स्थल वहां से 400 मीटर की दूरी पर है जिसकी वास्तविक स्थिति नीचे दिए गूगल मैप लिंक में दी गयी है https://maps.app.goo.gl/ft1yJ
विशेष जानकारी: दिल्ली बहुत से ट्रैन हरिद्वार जाती है परन्तु सबसे दो की जानकारी निचे दी जा रही है
1 ) ट्रैन संख्या 12055 शाम 3:20 पर निकलती है और 8 बजे हरिद्वार यही ट्रैन 12056 वापसी में हरिद्वार से सुबह 6:30 बजे निकलती है (केवल बैठने की AC और बिना AC  सुविधा)
2) पूर्णतया AC ट्रैन संख्या 12205 नयी दिल्ली से रात 11:50 पर निकलती है और सुबह 4 बजे हरिद्वार पहुँचती है वापसी में यह ट्रैन 12206 रात 12:52 पर हरिद्वार  से चलकर सुबह 5:20 पर दिल्ली पहुँचती है
*बस*
दिल्ली एवं अन्य महत्वपूर्ण स्थानों से बस हरिद्वार और ऋषिकेश तक आती है यदि ट्रैन न मिले तो बस की साधारण से लेकर वॉल्वो सेवा अच्छी है उस से भी जाया जा सकता
बस हरिद्वार या ऋषिकेश बस अड्डे तक पहुचा देती है।आदर्श ग्राम नाम के ऋषिकेश बस अड्डे से शिविर स्थल केवल 6 किलोमीटर दूर है। हरिद्वार बस अड्डे से शिविर स्थल 30 km है। बस अड्डे से ऑटो या टैक्सी लेकर ऊपर दिए गए निर्देशानुसार पहुंच सकते है
*वायुमार्ग से:*
निकटतम एयरपोर्ट देहरादून शिविर स्थल से 22km की दूरी पर है
*अपने वाहन से:*
वास्तविक स्थिति नीचे दिए गूगल मैप लिंक में दी गयी है उसके अनुसार पहुंचे
*महत्वपूर्ण सूचना:* यदि किसी कारणवश आप रात में लेट हरिद्वार पहुंच रहे है असुविधा से बचने के लिए हरिद्वार, हरिपुर कलां में स्थित भागीरथी आश्रम में रुककर अगले प्रातः दिन ऋषिकेश पहुंच सकते है

हरिद्वार के भागीरथी आश्रम पहुंचने का लिंक https://goo.gl/maps/QBwy7cTs7mMFbmK67

फेसबुक इवेंट

https://www.facebook.com/events/442234673199604/?ti=cl

Comments

Popular posts from this blog

सूर्य ग्रहण में सूतक के नियम एवं जानकारियाँ

घी क्यों और कितना खाएं? - इस विषय पर संक्षिप्त परन्तु तृप्त करने योग्य जानकारी।

*कश्यपसंहिता में वर्णित 3 हज़ार वर्ष पुराना आयुर्वेदिक टीकाकरण - स्वर्णप्राशन*