Posts

जो कुत्ता मारे सो कुत्ता, जो कुत्ता पाले सो कुत्ता

Image
जो कुत्ता पाले सो कुत्ता
जो कुत्ता मारे सो कुत्ताघर में (प्रेशर) कुकर और कुकुर दोनों ही हानिकारक है।   इस पोस्ट का अर्थ यह कदापि नहीं है कि कुत्तो पर अत्याचार हो या उन्हें सडको से हटा दिया जाए।  अपितु जो लोग सडको पर कुत्तो को रोटी आदि प्रतिदिन देते है उनको मेरा प्रणाम है।  सड़क पर घुमते कुत्ते बहुत ज़रूरी है परन्तु घर में साथ रखने के लिए नहीं।  जिनको ऊपर लिखी बात से ठेस पहुंची है उनको और भी ठेस पहुंचगी यह जानकर कि घर में कुत्ता पालने वालो या कुत्ते को स्पर्श करने वालो के द्वारा कोई भी पुण्य कर्म का लाभ कुकुर पालक को नहीं मिलता।   चाहे वह हवन, यज्ञ, दान या किसी भी अन्य प्रकार का सुकर्म हो। यहाँ तक भी सुनने को मिला कि कुत्ते को स्पर्श करने के बाद 27 दिन तक यज्ञादि करने की अनुमति भी नहीं है।  जिस देश में अतिथि को देवता स्वरुप माना गया और चौखट पर "स्वागतम" लिखवाया जाता थाउस देश में द्वार पर "कुत्ते से सावधान" का बोर्ड अब स्वागत करता है।  मुझे तो अभी तक समझ नहीं आया की किस कुत्ते से सावधान रहने की चेतावनी है।  कितनी वैज्ञानिकता थी हमारे पूर्वजो में जो हमारे यहाँ पहले रोटी …

#वैक्सीन विरोधी पर्चा #VaccineVirodhi Pamphlet

Image
#वैक्सीन विरोधी पर्चा  #VaccineVirodhi Pamphlet राजीव भाई के विचारो से प्रेरित इस पर्चे को पूरे देश के अखबारों में डालकर बँटवाने में हमारा सहयोग करें इस पर्चे की पीडीएफ डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें . इस पीडीएफ में दो पेज है जिन्हे आगे पीछे छपवा कर बाँट सकते है।  एक पर्चा राजीव भाई के फोटो के साथ है और एक बिना फोटो के।  जहाँ आपको लगता है की राजीव भाई की फोटो के बिना अधिक लोग इसे पढ़ेंगे वहां उसी प्रकार बांटे। प्रयास करें कि अखबारों द्वारा ही बाँटे क्योंकि इस विषय को समझने के लिए जो लोग पढ़ सकते है उन तक यह बात पहुंचना आवशयक है जिस से जो नहीं पढ़ सकते उन तक मौखिक रूप से स्थानीय भाषा में अनुवाद कर इस विचार को पंहुचा सकते है।  महत्वपूर्ण यह नहीं है की कितने लोग इस से सहमत या असहमत होंगे, महत्वपूर्ण यह है की इस विषय से अनभिज्ञ लोगो को इस बारे में जानकारी दी जाएँ यदि किसी भी कारण से आप इसे नहीं बाँट सकते और हमें छपवाने में क्षमतानुसार आर्थिक सहयोग करना चाहते है तो इसके लिए 9212435203 पर सन्देश या virendersingh16@rediffmail.com पर ईमेल करें 

यह किसी संस्था या व्यक्ति का प्रचार नहीं है यह आ…

प्राइवेट ट्रेन खुद तय करेंगी अपना किराया, सरकार देगी छूट

Image
प्राइवेट ट्रेन खुद तय करेंगी अपना किराया, सरकार देगी छूट*************************************************************

निजी कंपनियों को ट्रैन का किराया अपनी मर्ज़ी से तय करने की मिली छूट
अब सरकार को क्या दोष दें, इतना तो समझ आ गया है  इस PM की कुर्सी पर कोई पार्टी आ जाये, देश उसी दिशा में जायेगा जहाँ उसे वैश्विक माफिया शक्तियां ले जाएँगी। इस विषय का इंतज़ार रहेगा की इन ट्रैन में सांसदों को मुफ्त में ढोया जायेगा या नहीं?अब इस कड़वे निर्णय को सही साबित करने के लिए टिपण्णी में बहुत ही सकारात्मक शब्दों का शहद लगाकर हमें चटवाया जायेगा और उस निर्णय के अलसी स्वाद के आने तक हम वाह वाह करेंगे और बाद में आह करेंगेलेकिन बहुमत जो वोटिंग मशीन के दम पर मिला है उसका असली उद्देश्य तो अभी पूरा करना है।  अब हमें सरकार विरोधी, वामपंथी, कांग्रेसी और इस कड़वे निर्णय को सही साबित करने के लिए टिपण्णी में बहुत ही सकारात्मक शब्दों का शहद लगाकर हमें चटवाया जायेगा और उस निर्णय के असली स्वाद के आने तक हम वाह वाह करेंगे और बाद में आह करेंगेहास्यास्पद है कि इन निजी कंपनियों के लिए ट्रैन किराये की अधिकतम सीमा निश्चित न क…

त्रिफला खाकर हाथी को बगल में दबा कर 4 कोस ले जाएँ! जानिए 12 वर्ष तक लगातार असली त्रिफला खाने के लाभ!

Image
वह सब जो आप त्रिफला के विषय मे नही जानते!



जानिए 12 वर्ष तक लगातार असली त्रिफला खाने के लाभ!
त्रिफला खाकर हाथी को बगल में दबा कर 4 कोस ले जाएँ!
गोधूली परिवार द्वारा प्रमाणित सर्वश्रेष्ठ त्रिफला
गुरुकुल प्रभात आश्रम का *त्रिफला सुधा*

त्रिफला के विषय मे सरल एवं विस्तार पूर्वक जाने की क्यो कहा जाता है कि

हरड़ बहेड़ा आंवला घी शक्कर संग खाए
हाथी दाबे कांख में और चार कोस ले जाए (1 कोस = 3-4 km)

वात पित कफ को संतुलित रखने वाला सर्वोत्तम फल त्रिफला वाग्भट्ट ऋषि के अनुसार इस धरती का सर्वोत्तम फल त्रिफला लेने के नियम-

त्रिफला के सेवनसे अपने शरीरका कायाकल्प कर जीवन भर स्वस्थ रहा जा सकता है।

आयुर्वेद की महान देन त्रिफला से हमारे देश का आम व्यक्ति परिचित है व सभी ने कभी न कभी कब्ज दूर करने के लिए इसका सेवन भी जरुर किया होगा पर बहुत कम लोग जानते है इस त्रिफला चूर्ण जिसे आयुर्वेद रसायन मानता है।
अपने कमजोर शरीर का कायाकल्प किया जा सकता है। बस जरुरत है तो इसके नियमित सेवन करने की, क्योंकि त्रिफला का वर्षों तक नियमित सेवन ही आपके शरीर का कायाकल्प कर सकता है।

सेवन विधि - सुबह हाथ मुंह धोने व कुल्ला आदि करने …

मोदीजी की थोपी गई सकारात्मक छवि ही देश का काल न बन जाएं!

Image
मोदीजी की थोपी गई सकारात्मक छवि ही देश का न बन जाएं!
......बहुत खतरनाक महामारी है, मोदी बचा रहा है अन्यथा यहाँ भी सड़कों पर लाशों के ढेर लगे होते, कोई उठाने वाला नहीं होता, पूरी दुनिया में देखा नहीं क्या? दूसरे देशों में लोग जरूरत न हो तो खिड़की भी नहीं खोलते और यहाँ कितने ‘अनएजुकेटेड’ और जाहिल लोग है, किसी भी बिना ‘स्टैण्डर्ड’ की दूकान से सामान खरीद लेंगे, गाँव के लोग तो बिलकुल उजड्ड हैं, इनके क्या है फालतू बार बार बाहर निकलेंगे (बेचारा जिस आदमी का काम ही बार बार बाहर जाने का है, वह भी इनके लिए फालतू है), हम तो निकलते ही नहीं हैं किसी के घर भी नहीं जाते, उसके यहाँ पानी भी नहीं पीते, कुछ हो गया तो? भारत  के लोग बहुत लापरवाह हैं, सब्जियां लाते ही साबुन से धोकर दो दिन रख दो फिर काम में लो.....बाहर तो निकलो ही मत आदि आदि और न जाने क्या क्या?पिछले पांच महीने से हमारे पडोसी भाईसाहब और उनके जैसे बहुत लोग यही सब ज्ञान बाँट रहे हैं, मैंने पाया कि इनमें ज्यादातर लोग वे हैं जिनके घर में अच्छा वेतन या पेंशन आती है या अन्य बहुत अच्छे आय के स्त्रोत है और ऐसे लोगों को अपना भविष्य आर्थिक रूप से सुरक्षि…

ठन्डे चूल्हो पर सिकती राजनीति की बासी रोटियाँ!

Image
धर्म के मूल में अर्थ (धन) है जिसके बिना सब अनर्थ (निर्धन) है धर्म और राष्ट्र की रक्षा बिना अर्थ के न हुई है न होगी अब लोगों का डर कम हो रहा है। अधिकांश लोगों को समझ आ गया है। सब यही कहते हैं 'कुछ तो गड़बड़ है।' दुकानें खुल गयी हैं। हालांकि फिर भी लोगों को अपने आँख कान को खुला रखना होगा। थाली और ताली पीटकर अब अपना सिर पीटना पड़ रहा है दिए जलाकर अपना कारोबार में ही आग लगवा ली आप लोगों ने दुकानदारी बंद कर अपना रोजगार, व्यापार खुद चौपट किया है। इसके दोषी आप सब खुद हैं। क्योंकि आपलोगों की चुप्पी ने सरकारों का हौसला बढ़ा दिया था। यह गलती फिर से मत कीजिएगा। बीमारी तो बाद में भूख और अवसाद पहले आपको चपेट में ले लेगा। इसलिए आगे से दुकान - रोजगार को बंद न करें। अब सबको एक बात गाँठ बाँध लेनी चाहिए। किसी भी कीमत पर काम - धाम पर लगाम नहीं लगाने देंगे। अगर ऐसा होता है तो इसके खिलाफ बोलिए। आपके बच्चे को खाना आपका काम और रोजगार ही खिलाएगा। साप्ताहिक बंदी के दिन भी अपने रोजगार को चालू रखें ताकि आपके नुकसान को कवर किया जा सके। सर्दियों में फिर से एक बार हवा उड़ाई जाएगी। उस वक्त फिर हाय तौबा मचाय…

वामपंथी और क्रन्तिकारी होने में अंतर है!

Image
वामपंथी और क्रन्तिकारी होने में अंतर है! **********************************
वामपंथियों को अपनी विचारधारा की चिंता है देश से कोई लेना देना नहीं परन्तु हमें केवल अपने देश की और आने वाली पीढ़ी से लेना देना है
कहाँ गए बड़े बड़े youtube चैनेलो के कर्ताधर्ता बड़े देशभक्त बने फिरते है, जान देना तो छोड़ो youtube चैनल डिलीट न हो जाये इस डर से इस वायरस के षड्यंत्र पर चुप्पी साध ली
Thanks Bharat वाला भी भारत को थैंक्स कहकर इंडिया में चला गया क्या?
यही हाल और बहुत से तथाकथित सोशलमीडिया क्रांतिकारियों का है
पुष्पेंद्र जी को तो हिन्दू मुस्लिम से फुर्सत नहीं! उनका दोष नहीं है!
इस विषय पर 100 एपिसोड बनाने का दावा सुदर्शन चैनल वाले की भी २ एपिसोड दिखा कर हवा निकल गई
संघ ने तो जैसे अपने मुँह पर हाथ रखकर ऊपर से मास्क कसकर बाँध लिए है