Posts

Showing posts from April, 2019

(भाग - 2) मांसाहार: कुतर्क एवं भ्रम

Image
(भाग - 2) मांसाहार: कुतर्क एवं भ्रम
***************************




कुतर्क 2)

क्या आप भोजन मुहैया करा सकते थे वहाँ जहाँ एस्किमोज़ रहते हैं (आर्कटिक में) और आजकल अगर आप ऐसा करेंगे भी तो क्या यह खर्चीला नहीं होगा?

खण्ड़न-

अगर एस्किमोज़ मांसाहार बिना नहीं रह सकते तो क्या आप भी शाकाहार उपलब्ध होते हुए एस्किमोज़ का बहाना आगे कर मांसाहार चालू रखेंगे? खूब!!

एस्किमोज़ तो वस्त्र के स्थान पर चमड़ा पहते है, आप क्यों नही सदैव उनका वेश धारण किए रहते?

अल्लाह नें आर्कटिक में मनुष्य पैदा ही नहीं किये थे,जो उनके लिये वहां पेड-पौधे भी पैदा करते, लोग पलायन कर पहुँच जाय तो क्या कीजियेगा।

ईश्वर नें बंजर रेगीस्तान में भी इन्सान पैदा नहीं किए।

फ़िर भी स्वार्थी मनुष्य वहाँ भी पहुँच ही गया।

यह तो कोई बात नहीं हुई कि दुर्गम क्षेत्र में रहने वालों को शाकाहार उपलब्ध नहीं, इसलिए सभी को उन्ही की आहार शैली अपना लेनी चाहिए।

 आपका यह एस्किमोज़ की आहारवृत्ति का बहाना निर्थक है।

जिन देशों में शाकाहार उपलब्ध न था, वहां मांसाहार क्षेत्र वातावरण की अपेक्षा से मज़बूरन होगा और इसीलिए उसी वातावरण के संदेशकों-उपदेशकों नें मांसाहार…

देश को बेचने के लिए मारा शास्त्री जी को!

Image

पीतल पर असली कलई - क्या और कैसे?

Image
कैसे और क्या होती है असली कलई 
इस वीडियो में देखिए!




पीतल के बर्तन प्रयोग करना लाभकारी है परंतु कलई लगाकर ही प्रयोग करना उचित है! कैसे और क्या होती है असली कलई इस वीडियो में देखिए


गोधूलि सह-संस्थापक
श्रीमती रंजना सब्बरवाल द्वारा
उनकी देशी रसोई से Gaudhuli.com

मांसाहार: जानवर की लाश में मिलता स्वाद - विरेंद्र सिंह

Image
मांसाहार: जानवर की लाश में मिलता स्वाद - विरेंद्र सिंह

गोधूलि परिवार कार्यालय एवं प्राकृतिक उत्पाद केंद्र का शुभारम्भ

Image
गोधूलि परिवार कार्यालय का शुभारम्भ
        गोधूली परिवार के सदस्यों के लिए शुभ समाचार
                                                ***********************************
पंचगव्य चिकित्सा परामर्श एवं
                                    प्राकृतिक उत्पाद केंद्र
                                                         ***************************




B-41, तीसरा तल,
गली न.9, सेवक पार्क,
उत्तम नगर, नई दिल्ली
निकट द्वारका मोड़ मेट्रो स्टेशन (गेट संख्या 2 की ऒर)
निकट ज्योति डायग्नोस्टिक सेन्टर

संपर्क 9810395758, 9810995758

गूगल मैप लिंक:
https://maps.app.goo.gl/oodncj2fg6cJxPtK6

परामर्श समय - प्रत्येक शनिवार प्रातः 11 से 02 बजे
उत्पाद उपलब्धता - प्रतिदिन प्रातः 11 बजे से सांय 7 बजे तक

उत्पाद लेने हेतु एवं डाक मंगवाने हेतु संपर्क -  8920266719, 9873410520
***************************
गोधूली परिवार द्वारा जनहित में प्रेषित
- वीरेंद्र
सह-संस्थापक
गोधूली परिवार
VirenderSingh.in
GauDhuli.com
*********
गोधूलि परिवार से कैसे जुडे?
200 परिवार गोधूली साकार
*******************
गोधूली परिवार: सदस्यता प्रपत्र
h…

घर में बांस नहीं गोघृत जलाये

Image
घर में बांस नहीं गोघृत जलाये
********************


शास्त्रो में बांस की लकड़ी को जलाना वर्जित है, किसी भी हवन अथवा पूजन विधि में बांस को नही जलाते हैं।

यहां तक कि चिता में भी बांस की लकड़ी का प्रयोग वर्जित है।

अर्थी के लिए बांस की लकड़ी का उपयोग होता है लेकिन उसे भी नही जलाते

शास्त्रों के अनुसार बांस जलाने से पित्र दोष लगता है

क्या इसका कोई वैज्ञानिक कारण है?

बांस में लेड व हेवी मेटल प्रचुर मात्रा में होते है
लेड जलने पर लेड आक्साइड बनाता है जो कि एक खतरनाक नीरो टॉक्सिक है  हेवी मेटल भी जलने पर ऑक्साइड्स बनाते है

लेकिन जिस बांस की लकड़ी को जलाना शास्त्रों में वर्जित है यहां तक कि चिता मे भी नही जला सकते, उस बांस की लकड़ी को हमलोग रोज़ अगरबत्ती में जलाते हैं।

अगरबत्ती के जलने से उतपन्न हुई सुगन्ध के प्रसार के लिए फेथलेट नाम के विशिष्ट केमिकल का प्रयोग किया जाता है

यह एक फेथलिक एसिड का ईस्टर होता हैयह भी स्वांस के साथ शरीर मे प्रवेश करता है

इस प्रकार अगरबत्ती की तथाकथित सुगन्ध न्यूरोटॉक्सिक एवम हेप्टोटोक्सिक को भी श्वास के साथ शरीर मे पहुचाती है

इसकी लेश मात्र उपस्थिति केन्सर अथवा मष्तिष्क आघा…

गोधूली वाहक एवं आचार्य हेतु आवेदन

Image
गोधूली वाहक / आचार्य हेतु आवेदन **************************************


आवेदन हेतु इस लिंक पर भी जा सकते है 

goo.gl/vTBPCP

Loading...

प्रकाशौषधि - बच्चो के कफ रोगों में रामबाण घरेलु नुस्खा - मेरी माँ का ज्ञान - विरेंद्र सिंह

Image
बच्चो के कफ रोगों में रामबाण औषधि
प्रकाशौषधि बदलते मौसम में सभी कफ रोगों से परेशान होते है विशेषकर बच्चे। अतः उन सबके लिए प्रस्तुत है मेरी माँ की सिखाई हुई एक प्रभावी औषधि।