क्यो लीपा कार को गोवर से?


कार को गोबर से कार को गोबर
 से लीपकर किया अद्भत काम
**************

गाय का वर अर्थात गाय का वरदान। गोवर जिसका बिगड़ा स्वरूप अर्थात अपभ्रंश है "गोबर"।

जहां यह गोवर गिरता है उसके नीचे का तापमान बढ़ता नही है अर्थात सूखा नही पड़ता वहां नमी बनी रहती है। वो स्थान मरुस्थल नही बनेंगे। इसीलिए गाय जहां विचरती है वहां का जल स्तर नीचे नही जाता था जो आज नीचे जा रहा है।

विकिरण रोकने के साथ तापमान को नियंत्रित करने का भी अद्भुत गुण है इसमें।

इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन के परीक्षण का प्रत्यक्ष प्रमाण इस वीडियो में है



यही कारण था कि हमारे गाँव की स्थापना में गोबर से लीपे घरों में रहने की व्यवस्था रही।

चूल्हे से उठने वाले धुंए को सोखने का भी गुण इसमें है।

आंगन को भी गोबर से लीपा जाता था जिस से पैर न जले।

अब इन सब गुणों को ध्यान में रखते हुए अपनी कार को गोवर से लीप देने का अद्भुत कार्य किसी ने किया है। जिस से कार अधिक गर्म न हो।

यह किसने किया यह महत्व का नही

जो किया है वह महत्व का है।

ऐसे गोभक्तो को नमन।

ऐसे ही नए विचारों का ढिंढोरा जम कर पीटने को मैं व्यक्तिगत रूप से उत्सुक रहता हूँ। व्हाट्सएप्प पर किसी ने भेजा था तो आपको प्रेषित कर रहा हूँ

वीरेंद्र का विचार
संस्थापक : गोधूलि परिवार

Gaudhuli.com 

Comments

Popular posts from this blog

*कश्यपसंहिता में वर्णित 3 हज़ार वर्ष पुराना आयुर्वेदिक टीकाकरण - स्वर्णप्राशन*

त्रिफला खाकर हाथी को बगल में दबा कर 4 कोस ले जाएँ! जानिए 12 वर्ष तक लगातार असली त्रिफला खाने के लाभ!

लेख: भ्रष्टाचार की महामारी : झूठ बड़ा है तो सच होने का आभास दे रहा है लेकिन है झूठ ही!