अब कुछ ठीक नही है जबसे मैं हिन्दू हो गया हूँ

कुछ ठीक नही है, जब से मैं हिन्दू हो गया हूँ


सब ठीक था जब

वो मुस्लिम या ईसाई था और मैं हिन्दू नही था।


अब कुछ ठीक नही है

जबसे मैं हिन्दू हो गया हूँ।



जब से हिन्दू हो गया हूँ, पगला गया हूँ
कट्टर हो गया हूँ, 

धर्मनिरपेक्ष नही रहा
असहिष्णु हो गया हूँ।


लेकिन वो तब भी शांतिप्रिय थे और आज भी।
वो पैदा होते ही मुस्लिम बन जाते है
हमे तो याद दिलाना पड़ता है


कोई डॉक्टर इसीलिए नही बनता है कि वह स्वयं बीमार है क्योंकि दूसरे बीमार है।

इसीलिए मुझे भारतीय सनातनी बनना पड़ा है
क्योंकि बाकी सब इंडियन बन गए है


- एक सनातनी हिन्दू
वीरेंद्र के विचार
कीबॉर्ड रूपी कलम से

Comments

Popular posts from this blog

*कश्यपसंहिता में वर्णित 3 हज़ार वर्ष पुराना आयुर्वेदिक टीकाकरण - स्वर्णप्राशन*

त्रिफला खाकर हाथी को बगल में दबा कर 4 कोस ले जाएँ! जानिए 12 वर्ष तक लगातार असली त्रिफला खाने के लाभ!

लेख: भ्रष्टाचार की महामारी : झूठ बड़ा है तो सच होने का आभास दे रहा है लेकिन है झूठ ही!