अब कुछ ठीक नही है जबसे मैं हिन्दू हो गया हूँ

कुछ ठीक नही है, जब से मैं हिन्दू हो गया हूँ


सब ठीक था जब

वो मुस्लिम या ईसाई था और मैं हिन्दू नही था।


अब कुछ ठीक नही है

जबसे मैं हिन्दू हो गया हूँ।



जब से हिन्दू हो गया हूँ, पगला गया हूँ
कट्टर हो गया हूँ, 

धर्मनिरपेक्ष नही रहा
असहिष्णु हो गया हूँ।


लेकिन वो तब भी शांतिप्रिय थे और आज भी।
वो पैदा होते ही मुस्लिम बन जाते है
हमे तो याद दिलाना पड़ता है


कोई डॉक्टर इसीलिए नही बनता है कि वह स्वयं बीमार है क्योंकि दूसरे बीमार है।

इसीलिए मुझे भारतीय सनातनी बनना पड़ा है
क्योंकि बाकी सब इंडियन बन गए है


- एक सनातनी हिन्दू
वीरेंद्र के विचार
कीबॉर्ड रूपी कलम से

Comments

Popular posts from this blog

सूर्य ग्रहण में सूतक के नियम एवं जानकारियाँ

घी क्यों और कितना खाएं? - इस विषय पर संक्षिप्त परन्तु तृप्त करने योग्य जानकारी।

*कश्यपसंहिता में वर्णित 3 हज़ार वर्ष पुराना आयुर्वेदिक टीकाकरण - स्वर्णप्राशन*