वीडियो : "वो" मज़हब के पक्के है तो संगठित है और हम कच्चे तो बिखरे!



क्यों वो एक है  ?
हम अनेक है पर एक नहीं 




आस्थावान को कोई बहका नहीं सकता 
आस्था-विहीन को कोई बचा नहीं सकता 

अतः आस्था रखें अपनी संस्कृति के प्रति 
भारतीयता के प्रति, अपनी जड़ो के प्रति 

Comments

Popular posts from this blog

*कश्यपसंहिता में वर्णित 3 हज़ार वर्ष पुराना आयुर्वेदिक टीकाकरण - स्वर्णप्राशन*

त्रिफला खाकर हाथी को बगल में दबा कर 4 कोस ले जाएँ! जानिए 12 वर्ष तक लगातार असली त्रिफला खाने के लाभ!

लेख: भ्रष्टाचार की महामारी : झूठ बड़ा है तो सच होने का आभास दे रहा है लेकिन है झूठ ही!