वीडियो : "वो" मज़हब के पक्के है तो संगठित है और हम कच्चे तो बिखरे!



क्यों वो एक है  ?
हम अनेक है पर एक नहीं 




आस्थावान को कोई बहका नहीं सकता 
आस्था-विहीन को कोई बचा नहीं सकता 

अतः आस्था रखें अपनी संस्कृति के प्रति 
भारतीयता के प्रति, अपनी जड़ो के प्रति 

Comments

Popular posts from this blog

सूर्य ग्रहण में सूतक के नियम एवं जानकारियाँ

घी क्यों और कितना खाएं? - इस विषय पर संक्षिप्त परन्तु तृप्त करने योग्य जानकारी।

*कश्यपसंहिता में वर्णित 3 हज़ार वर्ष पुराना आयुर्वेदिक टीकाकरण - स्वर्णप्राशन*