योगीजी से विनम्र प्रश्न!





योगीजी से विनम्र प्रश्न

योगी आदित्यनाथ के लिए मेरे मन मे बहुत सम्मान है। जो उनके जीवन पर लिखी पुस्तक "The monk who became Chief Minister" पढ़ने के बाद और बढ़ गया। मोदी जी का अच्छा विकल्प है यह मानने लगा हूँ।

परंतु हाल ही में एक छोटी सी घटना से योगी जी के लिए एक प्रश्न अनायास ही मस्तिष्क में आया। जो किसी भी प्रकार से उनके प्रति किसी दुर्भावना के अंतर्गत नही उपजा अपितु उनकी ऐसी कौन सी मजबूरी थी कि उन जैसे निर्भीक सन्यासी को ऐसा निर्णय लेना पड़ा। 

यह प्रश्न का विषय है कोरोना lockdown के समय उनके दिवंगत पिता जी के अंतिम संस्कार में न जाने के निर्णय के बारे मे।

जैसा कि सबको पता है कि वह एक सन्यासी है 

तो प्रश्न यह है कि क्या सन्यासी धर्म के अनुसार किसी सन्यासी को अपने त्यागे हुए परिवार के अंतिम संस्कार में जाने का नियम है?

सन्यास लेने के पश्चात अपने माता पिता या परिवार से पूर्णतया विरक्त हो जाता है सन्यास नियम के अनुसार वह सब त्याग देता है तो अपने पिता के अंतिम संस्कार में यदि lockdown नही भी होता तो भी योगी जी शायद नही जाते। परंतु वहां न जाकर उसे कोरोना lockdown का पालन करने का विषय बनाने के पीछे उनकी कौन सी मजबूरी रही यह प्रश्न मन मे उठा।

और मैं फिर से अपनी बात दोहरा दूं कि यह प्रश्न किसी गलत भावना के कारण नही उठा है। इसीलिए कोई इसका उत्तर दे तो सभ्य भाषा मे दे नही तो डिलीट और ब्लॉक का विकल्प खुला है मेरे पास।

यह प्रश्न पूछने का उद्देश्य भी बता देता हूँ। मैं जानना चाहता हूँ कि क्या राजनीति में ऐसे अवसर को भी अपने प्रति सहानुभूति जुटाने के लिए प्रयोग किया जाता है क्या? 

यदि योगी जी ने मोदी के प्रति अपनी निष्ठा के अंतर्गत यदि देश मे एक सकारात्मक संदेश देने के लिए इस विषय को कोरोना lockdown से जोड़ा है तो मेरे मन मे योगी जी की निष्ठा के लिए सम्मान और बढ़ जाएगा। परंतु यदि किसी के कहने से मजबूरी में ऐसा किया तो उनके निर्भीक प्रवृति के लिए थोड़ा सा संदेह।

किसी के पास इसका उचित उत्तर हो तो बताए।
और जिसको मेरी पोस्ट समझ न आए वो कृपया टिप्पणी बाज़ी में मेरा और अपना समय व्यर्थ  न करे।

कीबोर्ड रूपी कलम से 
योगी जी को एक CM नही एक त्यागी, गोभक्त और निर्भीक सन्यासी होने के कारण नमन करता

- वीरेंद्र सिंह
VirenderSingh.in

Comments

  1. प्रश्न काफी गूढ़ है | शायद समय इसका जवाब दे |

    ReplyDelete
  2. आपका ये प्रशन सही है शायद उनके पास कोई उत्तर हो।

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सूर्य ग्रहण में सूतक के नियम एवं जानकारियाँ

घी क्यों और कितना खाएं? - इस विषय पर संक्षिप्त परन्तु तृप्त करने योग्य जानकारी।

*कश्यपसंहिता में वर्णित 3 हज़ार वर्ष पुराना आयुर्वेदिक टीकाकरण - स्वर्णप्राशन*