टीके से मृत्यु का 2 सप्ताह में तीसरा मामला ! टीकाकरण के बाद कानपुर में दो बच्चों की मौत से मचा हड़कंप, सीएमओ ने स्टाॅक सील कर दिए जांच के आदेश







टीके से मृत्यु का 2 सप्ताह में तीसरा मामला 

******************************************

दुनिया में एक माता की गोद में अपने हँसते खेलते बच्चे के शव से बड़ा दुःख शायद ही कोई और हो 

जिस बच्चे के अच्छे स्वास्थ्य की कामना से सरकार द्वारा चलाये जा रहे तथाकथित स्वास्थ्य अभियान पर विश्वास कर अपने बच्चो को इन सरकारी चमचो के हाथो में सौंप कर क्या पता था कि बच्चा न तो स्वस्थ मिला न बीमार मिला

वह मृत्यु को ही मिला 

जब यह सरकारी गुलाम टीके न लगवाने पर माता-पिता से लिखित में मांगते है की यदि टीके न लगाने के कारन बच्चे को कुछ बीमारी हुई तो ज़िम्मेदार माता-पिता होंगे।  अब इस सरकारी तंत्र से पूछो की अपने बच्चे की भलाई माता पिता बेहतर सोचे सकते है या ये सरकारी नौकर जिन्हे ऊपर से आदेश पर बिना बुद्धि के टारगेट पूरा करने की 

जल्दी होती है लेकिन अब जब टीके लगने के बाद बच्चे की मृत्यु हो गई अब किसकी ज़िम्मेदारी है?

लेकिन नहीं नियम कानून तो सब इनकी संपत्ति है जैसे भी हो तोड़ मरोड़ कर हमें चुप करवा देंगे 

अभी के लिए तो हर एक ऐसे समाचार को अधिक से अधिक आग की तरह फैलाएंगे

लेकिन हम चुप नहीं रहेंगे एक एक बच्चे की मौत का हिसाब समय आने पर लेंगे इस सरकारी तंत्र से

और हाँ जिन देश के नागरिको को लगता है की हम समाधान की बात नहीं करते केवल समस्या की बात करते है तो 

उन समझदारो को बता दें कि जब तक समस्या को हिम्मत से उठाना नहीं शुरू करोगे तो समाधान को लागू करने की हिम्मत भी नहीं आएगी।  

तुम में से अधिकतर से तो इतना भी नहीं हो पाता कि अपने प्रोफाइल पर #VaccineVirodhi शब्द लिख लो।  बात करते है समाधान की!

हर सूनी होती गोद पर शोक मनाता 

- वीरेंद्र 

***************************



टीकाकरण के बाद कानपुर में दो बच्चों की मौत से मचा हड़कंप, सीएमओ ने स्टाॅक सील कर दिए जांच के आदेश

उत्तर प्रदेश में कानपुर के सरसौल ब्लॉक के रामनगर और पताखेड़ा गांव में दो मासूम बच्चों की शुक्रवार को मौत हो गई। परिजनों ने बताया कि गुरुवार को टीका लगने के बाद विटामिन ए की खुराक दी गई थी। एक की उम्र 3 माह तथा दूसरे की 6 माह बताई जा रही है।

पुलिस ने दोनों बच्चों के शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। सीएमओ डॉ. अनिल मिश्रा का कहना है कि टीके की जांच कराई जाएगी। जिस बैच के टीके बच्चों को लगे थे, उसे लगाने पर रोक लगा दी गई है। बच्चों का कोरोना टेस्ट होने के बाद उनका पोस्टमार्टम किया जाएगा।

गुरुवार से पूरे प्रदेश में बच्चों को विटामिन ए की खुराक देने का अभियान शुरू किया गया था। रामनगर गांव के गंगा राम के 3 माह के बच्चे को विटामिन ए की खुराक पिलाई गई थी। पताखेड़ा गांव के बड़े साहू के 6 माह के बेटे शिवांशु को टीके लगाए गए थे। बताया गया कि शिवांशु के पैदा होने के बाद से कोई टीके नहीं लगे थे। परिवार के लोगों का आरोप है कि विटामिन की खुराक देने और टीके लगाने के बाद बच्चे सुस्त पड़ गए थे। देर रात दोनों बच्चों की मौत हो गई।

News Source: https://www.amarujala.com/uttar-pradesh/kanpur/two-children-died-after-vaccination-in-kanpur 

Comments

  1. No doubt ur struggle one day will bring fruitful result

    ReplyDelete
  2. सनातन धर्म में बीमारियों से बचने के लिए अनेकों उपाय बताया हैं। उन मैं से सामान्य स्तर पर हमें 2 उपाय देखने को मिलते हैं।
    एक स्वर्ण प्राश और

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

सूर्य ग्रहण में सूतक के नियम एवं जानकारियाँ

घी क्यों और कितना खाएं? - इस विषय पर संक्षिप्त परन्तु तृप्त करने योग्य जानकारी।

*कश्यपसंहिता में वर्णित 3 हज़ार वर्ष पुराना आयुर्वेदिक टीकाकरण - स्वर्णप्राशन*