द्वितीय गोधूली परिवार ऋषिकेश कैंप - नवंबर 2022 (शिविर स्थल तक कैसे पहुंचे?)


गोधूलि परिवार चार दिवसीय द्वितीय गोधूली परिवार ऋषिकेश कैंप



द्वितीय गोधूली परिवार ऋषिकेश कैंप - नवंबर 2022



 
शिविर स्थल तक कैसे पहुंचे?


जानकारी केवल पंजीकृत परिवारो के लिए

यदि आपने पंजीकरण नहीं करवाया है और फिर भी आप शिविर में आना चाहते है तो किसी धर्मशाला, होटल, आश्रम या अन्य स्थान पर स्वयं की रुकने की व्यवस्था करके भी शिविर में न्यूनतम सहयोग राशि देकर भाग ले सकते है। यदि किसी कारणवश शिविर स्थल आश्रम में रहने का स्थान उपलब्ध होगा तो ही आपको देने का प्रयास किया जाएगा।




*************
ट्रेन से कैसे पहुंचे?
***************
अधिकांश ट्रेन आपको हरिद्वार तक मिलेगी एवं कुछ ही ट्रैन ऋषिकेश तक आती है परन्तु प्रचलति तोप से लोग टैक्सी या ऑटो से ऋषिकेश तक जाते है। हरिद्वार से ऋषिकेश की दूरी 30 किलोमीटर है।

ऑटो आपको मुनि की रेती ऑटो स्टैंड तक छोड़ेगा वहां से ऑटो वाले को आपको "तपोवन पुलिस चौकी" तक जाने के लिए कहना है

शिविर स्थल वहां से 400 मीटर की दूरी पर है जिसकी वास्तविक स्थिति नीचे दिए गूगल मैप लिंक में दी गयी है

यदि टैक्सी या अपनी गाडी से आ रहे है तो नीचे दिए लिंक में स्थान तक आप आ सकते है। आश्रम में गाडी खड़ी करने की व्यवस्था है।

शिविर स्थल आनंद धामकी गूगल मैप पर स्थिति:

https://maps.app.goo.gl/ft1yJ

विशेष जानकारी: दिल्ली से बहुत सी ट्रैन हरिद्वार तक आती है एवं कुछ सीधी ऋषिकेश तक भी आती है परन्तु दो दैनिक एवम प्रचलित ट्रैन की जानकारी नीचे दी जा रही है

1 ) ट्रैन संख्या 12055 (दिल्ली देहरादून जन-शताब्दी एक्सप्रेस) शाम 3:20 पर दिल्ली से निकलती है और 8 बजे हरिद्वार यही ट्रैन 12056 वापसी में हरिद्वार से सुबह 6:30 बजे निकलती है (इस ट्रैन में केवल बैठने की AC और बिना AC सुविधा)

2) पूर्णतया AC ट्रैन संख्या 12205 नयी दिल्ली से रात 11:50 पर निकलती है और सुबह 4 बजे हरिद्वार पहुँचती है वापसी में यह ट्रैन 12206 रात 12:52 पर हरिद्वार से चलकर सुबह 5:20 पर दिल्ली पहुँचती है






***************
*बस से कैसे पहुंचे?*
***************

दिल्ली एवं अन्य महत्वपूर्ण स्थानों से बस हरिद्वार और ऋषिकेश तक आती है यदि ट्रैन न मिले तो बस की साधारण से लेकर वॉल्वो सेवा अच्छी है उस से भी जाया जा सकता है

बस हरिद्वार या ऋषिकेश बस अड्डे तक पहुचा देती है।आदर्श ग्राम नाम के ऋषिकेश बस अड्डे से शिविर स्थल केवल 6 किलोमीटर दूर है। हरिद्वार बस अड्डे से शिविर स्थल 30 km है। बस अड्डे से ऑटो या टैक्सी लेकर ऊपर दिए गए निर्देशानुसार पहुंच सकते है

शिविर स्थल आनंद धाम की गूगल मैप पर स्थिति:






********************
*वायुमार्ग से कैसे पहुंचे?*
**********************

निकटतम एयरपोर्ट देहरादून शिविर स्थल से 22km की दूरी पर है

शिविर स्थल आनंद धाम की गूगल मैप पर स्थिति:





*अपने वाहन से कैसे पहुंचे?*

***********************

शिविर स्थल आनंद धाम की गूगल मैप पर स्थिति दी गयी है उसके अनुसार पहुंचे
https://maps.app.goo.gl/ft1yJ

*महत्वपूर्ण सूचना:* यदि किसी कारणवश आप रात में लेट हरिद्वार पहुंच रहे है असुविधा से बचने के लिए हरिद्वार, हरिपुर कलां में स्थित भागीरथी आश्रम में रुककर अगले प्रातः दिन ऋषिकेश पहुंच सकते है

हरिद्वार के भागीरथी आश्रम पहुंचने का लिंक

https://goo.gl/maps/QBwy7cTs7mMFbmK67

यदि हरिद्वार में रात्रि में रुकने की परिस्थिति बन रही है तो हमारे नंबर 9873410520 पर सूचित करें

अति आवश्यक होने पर ही किसी सहयोग के लिए भी संपर्क करें
*******************************************

विशेष सूचना:


- गंगा जी के निकट होने के कारण ठण्ड अधिक होगी अतः अपने एवं बच्चो के लिए गर्म कपड़े साथ लाएं परन्तु रात्रि में स्वच्छ कम्बल या रज़ाई आपको आश्रम में उपलब्ध हो जायेंगे

- आश्रम की मर्यादा के अनुसार पुरुष एवं महिलाएं भारतीय परिधान ही धारण करें। विशेषकर महिलाएं साड़ी, सूट सलवार एवं अपने स्थानीय पारम्परिक वस्त्रो में ही आश्रम में प्रवेश करें। किशोर बच्चे एवं बच्चियों को भी भारतीय वस्त्र ही पहनाएं।

- सभी माता पिता बच्चो को रामायण महाभारत एवं अन्य पौराणिक घटनाओ के बारे में बताकर लाएं क्योंकि इस विषय से सम्बंधित प्रश्नोत्तरी सत्र बीच बीच में रखे गए है जिसमे सही उत्तर देने पर बच्चो को प्रोत्साहन हेतु उपहार भी दिए जायेंगे।

- माता पिता बच्चो के लिए किसी प्रकार के चिप्स, चॉक्लेट एवं अन्य बाज़ारू जंक फ़ूड पैकेट बंद उत्पाद साथ न लाएं अन्यथा शिविर में स्वस्थ दिनचर्या की प्रेरणा हेतु आने की सार्थकता नहीं रहेगी

- शिविर में भोजन प्रसाद से पहले भोजन मंत्र बोला जायेगा अतः आप निचे लिखा भोजन मंत्र का अभ्यास करें जिस से आपके परिवार को भोजन मंत्र बोलना के अभ्यास हो



 
ब्रह्मार्पणं ब्रह्म हविर्ब्रह्माग्नौ ब्रह्मणा हुतम् । 
ब्रह्मैव तेन गन्तव्यं ब्रह्मकर्मसमाधिनां । । 

ॐ सह नाववतु।
सह नौ भुनक्तु।
सह वीर्यं करवावहै।
तेजस्विनावधीतमस्तु।
मा विद्‌विषावहै॥

ॐ शान्ति: शान्ति: शान्ति:॥

ॐ प्राणाय स्वाहा, 

ॐ अपानाय स्वाहा

ॐ समानाय स्वाहा 

ॐ उदानाय स्वाहा 

ॐ व्यानाय स्वाहा 


अन्नपूर्णे सदापूर्णे शंकर प्राण वल्लभे।

ज्ञान वैराग्य सिद्धयर्थं भिक्षां देहि च पार्वति।।


माता च पार्वती देवी पिता देवो महेश्वरः ।
बान्धवाः शिवभक्ताश्च स्वदेशो भुवनत्रयम् ।।

*********************************

कार्यक्रम में आपको और आपके परिवार को अवसर मिलेगा

- ऐसे लोगो से मिलने का जो भारतीय जीवनशैली एवं दिनचर्या को यथासंभव या तो पालन कर रहे है या तो पालन करने के इच्छुक है
- आपको कई ज्ञानवर्धक सत्र जिसमे भोजन और स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारियों के साथ वीरेंद्र भाई द्वारा बच्चो को एक सत्र में फोटोग्राफी के मूल सिद्धांत सिखाएं जायेंगे
- अभूतपूर्व परमाणु वैज्ञानिक श्री आर एन वर्मा जी द्वारा स्वास्थ्य सम्बन्धी अद्भुत जानकारी
- हैदराबाद से भारतीय भोजन के विशेषज्ञ रामबाबू भाई द्वारा भारतीय भोजन को बनाने की कला पर सत्र
- गुरूजी रविंद्र शर्मा जी के मार्गदर्शन में जबलपुर में जीविका एवं शोध आश्रम के संस्थापक आशीष गुप्ता जी द्वारा विचारो का प्रेषण
पवन गुप्ता जी द्वारा भारतीय शिक्षा विषय पर कुछ विचार
- अपने बच्चो को भारतीय विचारधारा के अनुसार पालन पोषण करने वाले अभिवभावको द्वारा अपने अनुभव साँझा करने का सत्र -
- बच्चो के लिए ज्ञानवर्धक प्रश्नोत्तरी सत्र
- ज्ञानी वक्ताओं द्वारा विभिन्न विषयो पर वक्तव्य
- आपको परिवार के साथ गंगा किनारे बसा ऋषिकेश को घूमने का पर्याप्त समय भी दिया जाएगा
- आश्रम रहने की साफ सुथरी एवं सात्विक व्यवस्था

*********************************************

आयोजक:
गोधूली परिवार

Gaudhuli.com









Comments

Popular posts from this blog

डेटॉक्स के लिए गुरु-चेला और अकेला को कैसे प्रयोग करें / How to use Guru Chela and Akela for Detox (with English Translation)

त्रिफला खाकर हाथी को बगल में दबा कर 4 कोस ले जाएँ! जानिए 12 वर्ष तक लगातार असली त्रिफला खाने के लाभ!

*कश्यपसंहिता में वर्णित 3 हज़ार वर्ष पुराना आयुर्वेदिक टीकाकरण - स्वर्णप्राशन*