गर्मियों में ठंडक पाने का देसी तरीका - गोंद कतीरा (Tragacanth gum)


गर्मियों में ठंडक पाने का देसी तरीका - 

गोंद कतीरा (Tragacanth gum)

जिनके भी बच्चे बाज़ार में बिकने वाली जैली या और कुछ मांगते उन सभी के लिए प्रस्तुत है हमारी देसी जैली - गोंद कतीरा (ध्यान रहे कि गोंद के लड्डू बनने वाला गोंद इस से अलग होता है)

यह एक कांटेदार पेड़ का गोंद है जो स्वाभाव में बहुत ठंडा होता है और इसे किसी भी पंसारी की दूकान से 10-20 ग्राम लेकर पीसकर खांड के मिले 1 से 1.5 लीटर पानी में भिगो दें और इस चित्र मे दिए जैसा हो जाये तो स्वाद अनुसार Gaudhuli.com गुलाब जल या शहद और ऑर्गेनिक गुलकंद मिलकर खाएं ।

बच्चों को यह बहुत स्वादिष्ट लगेगा और बिमारियों से भी बचाएगा  

पाकिस्तान और अफगानिस्तान में सड़कों पर इसका शरबत खूब बिकता है




मात्रा: 4 ग्राम एक बार में 

गुण: निम्न रोग दूर होते है :

शरीर के खून को गाढ़ा करता है 

ह्रदय की कठोरता को दुर करता है 

आंतो की खराश दूर करना

सांस रोग में लाभ 

खांसी

कफ दूर करना

छाती और फेफड़ों के ज़ख्म

पेशाब की जलन 

हाथ-पैरों की जलन

सर की जलन

खुश्की

अधिक प्यास लगना


सर्दियों में इसका सेवन न करें

- वीरेंद्र 

सह - संस्थापक

गोधूली परिवार

Gaudhuli.com


Comments

  1. ise Gujarati me kiya kahte he mene bahot pata kiya par milta nahi

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

त्रिफला खाकर हाथी को बगल में दबा कर 4 कोस ले जाएँ! जानिए 12 वर्ष तक लगातार असली त्रिफला खाने के लाभ!

डेटॉक्स के लिए गुरु-चेला और अकेला को कैसे प्रयोग करें / How to use Guru Chela and Akela for Detox (with English Translation)

*कश्यपसंहिता में वर्णित 3 हज़ार वर्ष पुराना आयुर्वेदिक टीकाकरण - स्वर्णप्राशन*